plus Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र ~ NR SECRET DIARY

Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र



Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र , romance love story, ek humsafar aisa bhi
Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र 

 मोहित सीमा को ब्याह कर अपने शहर लाया था । सीमा गाव की सीधी साधी लड़की, शहर के तौर तरीके से अनभिज्ञ अपने ही धुन में रहने वाली थी । मोहित उच्च वर्ग के धनी कुलीन परिवार से था । मोहित बहुत ही समझदार था। और अपने इसी खूबी के कारण घर में सबका चेहता था और  कार्यक्षेत्र में भी सबका केंद्र बिंदु था ।

मोहित ने अपनी शादी की खुशी में एक छोटी सी पार्टी रखी जिसमे उसने अपने सारे colleagues और office staff को भी निमंत्रण भेजा था । मोहित यह भलीभांति जानता था कि सीमा शहरी पहनावा से परिचित नही है । इसलिए वह खुद सीमा के लिए एक प्यारा सा gown खरीद कर लाया और उसे शहरी लोगो के आकर्षण का केंद्र बनाने में उसकी  सहायता की ।

सीमा थोड़ा uncomfortable महसूस कर रही थी पर मोहित का प्यार और उसका साथ और उसकी प्यार भरी बातें उसकी जिझक और उसके डर  people opinion about her, everything will be fine, how she will manage??  को थोड़ा कम कर रहे थे ।

 सीमा और मोहित अब पार्टी में पहुँच गए थे। सब उसे शादी की बधाईया दे रहे थे । सीमा बीच बीच मे अपने कपड़े ठीक कर रही थी और थोड़ी 
घबरा रही थी । मोहित उसके हाव भाव से उसकी मन की बात समझ चुका था इसलिए उसने सीमा का हाथ थाम लिया ।


Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र , romance love story, ek humsafar aisa bhi
Love Story in Hindi-कहानी हमसफ़र 

सीमा की घबराहट और उसके चाल चलन को प्रेरणा जो मोहित की दोस्त और office में उसकी colleague थी उसे देख रही थी और उसे समझते हुए देर नही लगी । प्रेरणा मोहित को दिल दे चुकी थी पर मोहित उसे पसंद नही करता था, क्योंकि वो बहुत घमंडी और गुस्सेल थी । पर जब मोहित ने सीमा का हाथ अपने हाथ मे लिया तो प्रेरणा आग बबूला हो गयी । उसने एक तरकीब सोची । जब मोहित Mr वर्मा से मिलने में व्यस्त हो गया तब उसने अपने दोस्तों की मदद से सीमा को अपने पास बुलाया । और उसके लिए सारे पकवान मंगवाए। पर सीमा ने ऐसे पकवान न तो कभी देखे थे न कभी खाये थे । वो हाथ से ही उसे खाने लगी और वो उसके मजाक का पात्र बन गयी । इतना ही नही जब सीमा वहा से जाने लगी तो उसके एक दोस्त ने उसके रास्ते मे कुछ ऐसा फेका जिससे वो गिर पड़ी । और सब सीमा को देख रहे थे क्योंकि सीमा वास्तव में आज सबका केंद्र बिंदु बन के रह गयी थी ।

प्रेरणा का मन फिर भी नही भरा, पता नहीं क्या क्या टिपणी करने लगी, गाँववाले अनपढ़ गवार, क्या जाने शहर के तौर तरीके, ठीक से चलना भी नही आता, पता नही क्या देखा मोहित ने इसमें जो............

इतने में मोहित वहा आ गया, उसके चेहरे पे उभरते हुए गुस्से को देख प्रेरणा पीछे की और खिसक गयी।
सीमा के आंख के आंसूं बहुत कुछ बया कर रहे थे। तभी मोहित ने सीमा को उठाया और कहा सीमा तुम यह क्यों सोचती हो लोग तुम्हारे बारे में क्या कहेगे। यह तो वही लोग है जो आज इस तरफ कल उस तरफ हो जायेगे । पर अगर तुम वास्तव में यह चाहती हो यह लोग तुम्हें जाने, गॉव की लड़की को तो यह लो माइक और अपना वही लिखी हुई धुन सुनाओ जिससे सुन के मुझे तुमसे प्यार हो गया था ।

तब सीमा ने गाना आरंभ किया, तब उसकी मधुर आवाज सुन परिंदे भी मंत्र मुग्ध हो गए । उसकी आवाज में एक अलग ही अलाप था जो सबको अपनी तरफ खिंच रहा था । सबने उसके लिए तालिया बजायी और उसे बधाईया दी । प्रेरणा तो ठगी सी रह गयी थी ।

सबने सीमा की तारीफ की और उसे प्रोत्साहित किया । तब सीमा मोहित के पास जाकर उसके गले लग गयी । और उसने आगे कहा तुम ही मेरे सच्चे हमसफर हो और तुमने मुझसे शादी कर मुझे पूरा कर दिया । 

फिर ताली की गूंज से नए रंग भर गए पर इस बार यह ताली एक अनजान रास्तो पे प्यार के रंग बिखेरने के लिए थी जो सीमा और मोहित खुद बया कर रहे थे। 
Previous
Next Post »

No comments:

Post a Comment