plus Poem on Cut Water Concept ~ NR SECRET DIARY

Poem on Cut Water Concept

Poem on Cut Water Concept, Poem on Save Water, Poem on water preservation
Poem on Cut Water Concept

एक नयी विचारधारा जन्म ले चुकी है 
जल सरंक्षण की और जनता बढ़ चुकी है 
पत्रिका एक नयी मुहीम शुरू कर चुकी है 
जल के प्रति सवेंदना आज जग चुकी है। 

जल जीवन का आधार है 
जल सृष्टि का उपहार है 
जल से ही जुडी जीने  की लकीर है 
जल की  महिमा से कैसे करे हम इनकार है। 

पेयजल को हम बचा सकते है 
हम भी इस मुहीम का हिस्सा बन सकते है 
बस करना आसान सा काम है 
जल को व्यर्थ  बहने से रोकना है। 

कट कट कट, कट Excess Water
Use and Serve Limited Water
एक नया कदम towards Preserving Water
चलो हम भी इस कारवां को आगे बढाते है। 

जल है तो सरोवर को मिला जीवन है   

जल है तो प्रकृति में बसी हरियाली  है 
जल है तो पक्षी भी कर रहे  मधुर गान है 
जल है तो ही मुस्कुराता हुआ हमारा कल है। 














Previous
Next Post »