plus Sad Love Poetry ~ NR SECRET DIARY

Sad Love Poetry

हक़ीक़त की हसरत                       
Sad Love Poetry, bewafa love poem
Sad Love Poetry


जिंदगी हसरत है जहा लोग मिलते है और बिछूड़ जाते है
यादो के आईने में अपनी याद छोड़ जाते है
दोस्त बनाकर जख्म हज़ार वो दे जाते है
विश्वास दिलाकर सपने सारे तोड़ वो जाते है


सपने दिखाकर छोड़ दिया मझधार में
अपना बनाकर जोड़ दिया रिश्तो की दरकरार से
हमारे प्यार का यह आगाज़ लिखा उसने दुखो की ललकार से
हमारे स्वाभिमान का किया अपमान अपने दौलत के ईमान से

पल भर में तोड़ दिया जन्मो के वो अटूट बंधन
गम के सुरीले रेगिस्तान से किया खुशिया का उलंघन
वक़्त की तहज़ीब पर विश्वास का किया अनादर
विश्वास का यह तोहफा मिला हमे उनकी कयामत की डोर से

हसरत के मैदान में जिंदगी को दम तोड़ते हुए देखा है
प्यार में बह जाने वालो को नफ़रत की ज्वाला में जलते हुए देखा है
हर सुबह हर शाम हर वक़्त विश्वास को मरते देखा है
अंधविश्वास की झोली में तक़दीर को उज़ड़ते हुए देखा है

वक़्त की तहज़ीबे पे संभलकर चलना मेरे दोस्त
हसरत की इस दुनिया में जालिम से ना करना तुम इकरार
खुशिया के इस दीप को मत बदल देना तुम मातम के मौहाल में
अंधविश्वास की डोरिया में झूल कर खुद को ना सौप देना तुम सौदेगर के हाथ में। 
Previous
Next Post »

No comments:

Post a Comment