plus Father Day Poem In Hindi ~ NR SECRET DIARY

Father Day Poem In Hindi

                 जन्नत के ताज को हमारा प्रणाम
Father Day Poem in Hindi, Father Day Message in Hindi
Father Day Poem in Hindi

अनोखे अद्धभुत शख्स का आज करते हम उज्ज्वल गान है
बेटी की और से उनको शुभकामनाए हज़ार है
आपके चरणो में नतमस्तक होकर जन्नत का दर्शन करना हम चाहते है
आपके लिए खुदा से लाखो दुआ आज हम करते है। 

जन्नत का ताज कहु या खुशियों का सिरताज कहु
खुशिया से उज्जवलित दीप कहु  या करुणा का स्त्रोत्र कहु 
मानवता से परिलक्षित चट्टान कहु या मानवता का पुजारी कहु
प्यार और अपनेपन की ज्योति कहु  या सूरज की लालिमा कहु। 

संस्कारो से मिश्रित आभा कहु या इंसानियत से गढित कलश कहु
दीन दुखियो का सहारा कहु या खुशियों का नज़ारा कहु
सत्य से झंकृत चेतना कहु या राष्ट् का सेवक कहु
खुदा का अवतार कहु या खुदा कहु। 

क्या कहु पापा आपको लफ़्ज़ों में कहा आप समा पाओगे
अपने अंदर बसे उस खुदा को केसे आप पहचान पाओगे
पाया जो कुछ हमने आपसे कभी ना भूल पायगे हम
जायगे जहा कही भी हर वक़्त आपको अपने करीब ही पायेगे। 
Previous
Next Post »

No comments:

Post a Comment