plus Hindi Poem on Festival Teej-तीज ~ NR SECRET DIARY

Hindi Poem on Festival Teej-तीज








दीपक हु देहरी का
तेरी आँगन में ही महकती हु
सिंदूर तेरे नाम का
तेरे चरणों में खुद को समर्पित करती हूँ।

ये सिन्दूर ये रोली ये कुमकुम
समर्पित तुझको ये सारे संस्कार है
मेहँदी तेरी नाम की
तुझसे ही मेरा सारा संसार है।

गणगौर का त्यौहार है
उत्सव का मोहल्ल है
रब से इकरार है
तेरी उम्र हो सो हज़ार है।।।
Previous
Next Post »

No comments:

Post a Comment